( अपराध नियन्त्रण और यातायात सुधार हेतु वाहन चेकिंग )

0
10

( अपराध नियन्त्रण और यातायात सुधार हेतु वाहन चेकिंग )* (Vehicle checking for crime control and traffic improvement) *

*1 जुलाई से जनपद बलरामपुर में चालान और शमन शुल्क की सारी जिल्दें वापिस* ले ली गईं हैं।अब *100% ई चालान ऐप द्वारा ही चालान* किये जा रहे हैं।

जुलाई माह में *6148 ई चालान* किये गए और *53 वाहन सीज* किये गए।
यातायात कार्यालय में ई चालान के तहत लगभग *12.5 लाख रुपये जुर्माने के जमा हुए हैं। 72.5 लाख की जुर्माना राशि अभी बाकी है।*

*(नोट: जून माह में 336 वाहन सीज किये गए थे।जुलाई माह में वाहनों के सीजर में कमी कहीं न कहीं यातायात नियमों के प्रति जनता में बढ़ी जागरूकता का परिणाम है।)*
[02/08, 09:39] Anil Bbm: *माह जुलाई 2019 की रिपोर्ट – जनपद बलरामपुर*

*(अपराध नियंत्रण के लिए चार प्रकार से चेकिंग)*

1. *गरुण वाहिनी चेकिंग*

2. *50 पेट्रोल पम्पों पर चेकिंग*

3. *A से O तक 15 चेकिंग स्कीमें जिनमे हर थाने में 15 अलग अलग स्थानों पर चेकिंग होती है।*

4. *UP100 की PRVs द्वारा ऑपेरशन सुरक्षा संपर्क* जिसमें वो अपने बीट क्षेत्र के बैंकों, लड़कियों के स्कूल/कॉलेजों, ज्वेलर्स शॉप्स, गैस एजेंसीज, ग्राहक सेवा केंद्रों, व्यापारिक प्रतिष्ठान, आदि जैसे महत्वपूर्ण उपक्रमों के प्रभारियों से नियमित रूप से संपर्क करके उनसे कुशलता लेती हैं और उनको अपना CUG नम्बर देती हैं।

*(महिला सुरक्षा)*

जुलाई माह में जनपद बलरामपुर के 13 थानों के *13 एंटी रोमियो स्क्वाड ने 828 लफंगों के लफंगा डोजियर भरे और उनकी फोटो वीडियो बनाईं।*

*(बालिका सुरक्षा का जुलाई अभियान)*

इसके तहत जनपद के *106 स्कूलों में 11410 बच्चों को* बालिका सुरक्षा के बारे में जागरूक किया गया।
 

*कम्युनिटी पुलिसिंग*

*KYP – Know Your Police:* जनपद बलरामपुर में जनता और पुलिस के बीच संवाद स्थापित करने के लिए कम्युनिटी पुलिसिंग के तहत यह प्रोग्राम चलाया जा रहा है। विभिन्न स्कूलों के बच्चों को थानों पर आमंत्रित किया जाता है और उनको थाने का भ्रमण करवाते हुए पुलिस की कार्यप्रणाली से परिचित करवाया जाता है। जनपद में *जुलाई माह में 9 स्कूलों के बच्चों को विभिन्न थानों में आमंत्रित किया जा चुका है।*

*( जन शिकायत निस्तारण में प्रगति)*

*शिकायत प्रकोष्ठ में चल रही घपलेबाजी की समाप्ति:*

इस घपले बाजी को मैं *एक उदाहरण* के साथ समझाना चाहूंगा।

मान लीजिए पुलिस अधीक्षक के सम्मुख किसी दिन 20 आवेदक उपस्थित हुए और उन्होंने अपने प्रार्थना पत्र दिए। इन प्रार्थना पत्रों को शिकायत प्रकोष्ठ का स्टाफ बहुत ही चालाकी से दो अलग-अलग माध्यमों से थानों को भेजता है।
*आईजीआरएस के माध्यम से और डाक के माध्यम से* अलग अलग भेजता है।

*20 में से 2 प्रार्थनापत्र तो आईजीआरएस के माध्यम से जाएंगे लेकिन अट्ठारह प्रार्थना पत्र डाक के माध्यम से जाएंगे।*
*आईजीआरएस के माध्यम से जाने वाले प्रार्थनापत्रों का तो त्वरित निस्तारण हो जाता है, लेकिन डाक के माध्यम से जाने वाले प्रार्थनापत्रों का कई कई महीनों तक कोई जवाब नहीं आता है।*

*इस घपले बाजी को समाप्त किया गया।*

*अब न केवल SP बलरामपुर के सामने पेश होने वाले आवेदकों के प्रार्थनापत्र बल्कि अपर पुलिस अधीक्षक बलरामपुर और 4 क्षेत्र अधिकारियों के सम्मुख पेश होने वाले आवेदकों के प्रार्थनापत्रों को भी आइजीआरएस के माध्यम से ही भेजा जा रहा है।*

*इस प्रकार से जनपद के सभी GOs के सम्मुख आने वाले आवेदकों के शत प्रतिशत प्रार्थनापत्रों का समय सीमा में निस्तारण हो रहा है।*

*पीली पर्ची:* प्रचलित पर्ची व्यवस्था की खामियों को *पीलीभीत मॉडल ऑफ पर्ची सिस्टम* के आधार पर दूर किया गया और दिनांक 19 जुलाई 2019 से बलरामपुर के सभी थानों पर पीली पर्ची दिए जाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराई गई।

*मात्र दो ही हफ्तों में जनपद के 13 थानों से 661 पीली पर्चियां प्रार्थनापत्र लेकर के निर्गत की गई। जिनमें से एक भी प्रार्थनापत्र जांच के लिए 7 दिन से अधिक लंबित नहीं है।*

*भूमि शनिवार, परिवार रविवार:*
प्रचलित थाना समाधान दिवस और परिवार परामर्श केंद्र की व्यवस्था में पाई गई गंभीर कमियों को दूर करते हुए *पीलीभीत मॉडल ऑफ थाना समाधान दिवस तथा पीलीभीत मॉडल ऑफ परिवार परामर्श केंद्र के आधार* पर जनपद में बहुत सारे परिवर्तन किए गए और इसके बहुत ही उत्साहजनक परिणाम मिले।
भूमि और परिवार संबंधी विवादों को निपटाने के लिए *भूमि शनिवार, परिवार रविवार* टैगलाइन प्रचारित की गई।

*थाना समाधान दिवस का आयोजन हर थाने पर हर शनिवार को करवाया जाता है।*
*इसके साथ ही परिवार परामर्श केंद्र को डिसेंट्रलाइज करके अब हर थाने में हर रविवार को परिवार परामर्श केंद्र चलाया जा रहा है।*

मात्र *दो थाना समाधान दिवसों में 320 भूमि विवादों का निस्तारण* किया जा चुका है और मात्र *एक परिवार परामर्श केंद्र के आयोजन में 13 पारिवारिक विवाद निस्तारित* किए जा चुके हैं।

मित्रों और अधिक जाने हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर

हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें

ट्विटर को फॉलो करे

रिपोर्टर== अनिल शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here