डीएम ने कन्या सुमंगला योजना की समीक्षा बैठक से नदारद चार खण्ड शिक्षा अधिकारियों को वेतन रोकते हुए विभागीय कार्यवाही की, की संस्तुति

0
12

डीएम ने कन्या सुमंगला योजना की समीक्षा बैठक से नदारद चार खण्ड शिक्षा अधिकारियों को वेतन रोकते हुए विभागीय कार्यवाही की, की संस्तुत DM recommended departmental action withholding salary to four Block Education Officers missing from review meeting of Kanya Sumangala Yojana

 

कस्तूरबा गांधी व प्राइमरी स्कूलों में एक सप्ताह के अन्दर शौचालयों की व्यवस्था दुरूस्त करने के निर्देश

जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल ने कन्या सुमंगला योजना में रूचि न लेने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही शुरू कर दी है। शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने बिना सूचना के अनुपस्थित खण्ड शिक्षा अधिकारी झंझरी, इटियाथोक, नवाबगंज व मनकापुर का वेतन तत्काल प्रभाव से रोकते हुए उनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही किए जाने हेतु शासन को संस्तुति की है।
प्रदेश सरकार की महत्वाकंाक्षी कन्या सुमंगला योजना की प्रगति की समीक्षा के दौरान ज्ञात हुआ कि जनपद में खण्ड शिक्षा अधिकारियों के स्तर पर 1195 तथा खण्ड विकास अधिकारियों के स्तर पर 810 आवेदन लम्बित हैं। लम्बित आवेदनों पर कार्यवाही न किए जाने पर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त की तथा मींटिंग में बिना सूचना के नदारद चार खण्ड शिक्षा अधिकारियों का वेतन रोकते हुए उनके खिलाफ विभागीय कार्यवाही किए जाने के लिए शासन को संस्तुति की है। जिलाधिकारी ने स्पष्ट कहा कि कन्या सुमंगला योजना बेटियों व महिलाओं के सशक्तीकरण व उनकी बेहतर शिक्षा-दीक्षा के लिए प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई महत्वाकांक्षी योजना है। इसलिए सभी सम्बन्धित अधिकारी व्यक्तिगत रूचि लेते हुए ज्यादा से ज्यादा आवेदन कराएं तथा प्राप्त होने वाले आवेदनों को शीघ्रातिशीघ्र अपने स्तर से अग्रसारित करते रहें।
जिलाधिकारी ने योजना के प्रभावी क्रियान्वयन में बेसिक शिक्षा विभाग व माध्यमिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों को स्पष्ट चेतावनी भी दी है कि योजना की प्रगति में सुधार लाएं वरना निश्चित ही कार्यवाही की जाएगी। जिला प्रोबेशन अधिकारी जयदीप सिंह ने बताया कि अब तक जिले में कुल 2672 आवेदन आॅनलाइन किए गए हैं।
बैठक में ही जिलाधिकारी ने बेसिक शिक्षा विभाग की भी समीक्षा की। श्वेटर वितरण को लेकर जिलाधिकारी व सीडीओ ने बच्चों को दिए जा रहे श्वेटर की गुणवत्ता अच्छी सुनिश्चित कराने के निर्देश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को दिए हैं। इसके अलावा सभी उपजिलाधिकारियों को सख्त आदेश दिए हैं कि वे स्कूलों में आपूर्ति किए गए श्वेटर का सत्यापन करें और रैण्डम रूप से श्वेटरों को सैम्पल के लिए लेकर उसकी गुणवत्ता की जांच के लिए उपलब्ध कराएं।
  बैठक में ही जिलाधिकारी ने कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में छात्राओं की उपस्थिति के बारे में भी जानकारी ली। गौरतलब है कि जिलाधिकारी द्वारा औचक रूप से विगत दिनों कस्तूरबा गांधी आवासीस बालिका विद्यालयों में छात्राओं की उपस्थिति तथा वहां पर दी जा रही सुविधाओं का औचक निरीक्षण कराया था, जिसमें ज्यादातर विद्यालयों में छात्राओं की संख्या दर्ज छात्राओं के सापेक्ष काफी कम पाई गई थी। इस पर जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त की है। मुख्य विकास अधिकारी आशीष कुमार ने सभी कस्तूरबा गांधी विद्यालयों में एक सप्ताह के अन्दर शौचालयों का निर्माण अथवा मरम्मत कराकर रिपोर्ट देने के निर्देश खण्ड विकास अधिकारियों को दिए हैं।
बैठक में एसडीएम सदर बीर बहादुर यादव, करनैलगंज ज्ञानचन्द्र गुप्ता, मनकापुर आर0के0 वर्मा तथा तरबगंज राजेश कुमार, सीएमओ डा0 मधु गैरोला, जिला प्रोबेशन अधिकारी जयदीप सिंह, बीएसए मनिराम सिंह, डीसी मनरेगा, सहित खण्ड शिक्षा अधिकारीगण व खण्ड विकास अधिकारी तथा अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

मित्रों और अधिक जाने हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें
ट्विटर को फॉलो करे

रणविजय सिंह ब्यूरो चीफ गोंडा बीबीएम न्यूज़

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here