बच्चों के साथ शिक्षक भी खाएंगें आयरन की गोली

0
14

बच्चों के साथ शिक्षक भी खाएंगें आयरन की गोली Teachers will also eat iron tablets with children

-जिले में चल रहे एनीमिया मुक्त भारत अभियान के तहत हो रहे विभिन्न कार्यक्रम
-कक्षा 01 से 12 तक के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को दी जा रही आयरन की गोली
बलरामपुर 25 दिसम्बर। एनीमिया मुक्त भारत अभियान के तहत सभी स्कूलों में बच्चों के साथ शिक्षक भी आयरन की गोलियां खाएंगे। सभी सरकारी स्कूल में हर सोमवार को गोलियां खिलाई जा रही हैं। इस दौरान खेल-खेल में बच्चों को एनीमिया से बचने के तरीके भी बताए जा रहे हैं। जिले में यह अभियान 31 मार्च 2020 तक चलेगा।

एनीमिया मुक्त भारत के नोडल अधिकारी डॉ ए.के. सिंघल ने बुधवार को बताया अभियान के तहत एनीमिया यानी खून की कमी से ग्रसित 19 साल तक के किशोर, किशोरियों, गर्भवती तथा धात्री महिलाओं में 3 फीसदी कमी लाने का लक्ष्य रखा गया है। एनीमिया मुक्त भारत अभियान बलरामपुर समेत प्रदेश भर में चलाया जा रहा है। उन्होंने बताया सभी प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों के विद्यार्थियों को 4 सप्ताह तक प्रत्येक सोमवार आयरन की गुलाबी या नीली गोली खिलाई जाएगी। स्कूलों के शिक्षक अपनी निगरानी में बच्चों को गोली खिलाएंगे।

उन्होने बताया कि सीएमओ ने जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआईओएस) को पत्र के माध्यम से कहा है कि अभियान को सफल बनाने के लिए 2 शिक्षकों को नोडल नियुक्त करें। नोडल शिक्षक अपने क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के संबंधित चिकित्सा अधिकारियों या डॉक्टर का नंबर अपने पास रखें।

क्योंकि कभी-कभी आयरन की गोली खाने से बच्चों के पेट में दर्द व जी मिचलाने जैसी शिकायतें आ जाती है। ऐसा होने पर वे सीएचसी पर मौजूद चिकित्सक को फोन कर तत्काल मदद ले सकते हैं। उन्होने बताया बच्चों को आयरन की गोली देने से पहले शिक्षक स्वयं उसका सेवन करेंगंे, जिससे बच्चे आयरन की गोली खाने से ना झिझकें।

उन्होंने बताया खेलकूद, पोस्टर प्रतियोगिता,

मित्रों और अधिक जाने हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें
ट्विटर को फॉलो करे

राकेश कुमार पांडे ब्यूरो चीफ बलरामपुर

🇮🇳 भारत 🖋 ब्यूरो 🎤 मीडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here