रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की यस बैंक पर पाबंदी के बाद ग्राहक परेशान हैं

0
16

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की यस बैंक पर पाबंदी के बाद ग्राहक परेशान हैं. वहीं, सरकार यस बैंक के लिए री-स्‍ट्रक्‍चरिंग प्‍लान ला रही है. इन हालातों में यस बैंक के फाउंडर राणा कपूर का अजीबोगरीब बयान आया है.
राणा कपूर ने बिजनेस टुडे से बातचीत के दौरान कहा कि मैं पिछले 13 महीने से बैंक में सक्रिय नहीं हूं, ऐसे में मुझे कोई आइडिया नहीं कि क्‍या चल रहा है. बता दें कि यस बैंक ने नवंबर 2019 में शेयर बाजार को बताया था कि राणा कपूर की बोर्ड से कंप्‍लीट एग्जिट हो गई है.
ये भी पढ़ें- YES बैंक के लिए री-स्‍ट्रक्‍चरिंग प्‍लान का ऐलान, गड़बड़ी करने वाले की होगी पहचान
इसके मुताबिक राणा कपूर और उसकी प्रमोटर एंटिटी- यस कैपिटल और मॉर्गन क्रेडिट्स ने यस बैंक में अपनी बाकी 0.8 फीसदी हिस्सेदारी भी बेच दी है. इससे पहले, राणा कपूर और उनके ग्रुप की कंपनियों ने यस बैंक में अपनी 2.16 फीसदी हिस्सेदारी ओपन मार्केट ट्रांजैक्शन के जरिए 510 करोड़ रुपये में बेची थी. इसका मतलब ये हुआ कि राणा कपूर का शेयर अब यस बैंक में नहीं बचा है.
जिम्‍मेदार पर होगी कार्रवाई
इस बीच, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि बैंक में इन कठिनाइयों का क्या कारण है, इसका आंकलन होगा. इसके साथ ही समस्या के लिए व्यक्तिगत रूप से कौन ज़िम्मेदार हैं, उनकी पहचान की जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here