प्रधान मन्त्री ने दीप मोमबत्ति जलाने को किस लिय कहा जाने पुरा सच

0
9

:

तारीख5हीक्योंचुनी❓
रविवार ही क्यों चुना❓
9 बजे का वक्त ही क्यों चुना❓
9 मिनट का समय ही क्यों चुना❓

जब पूरा लॉकडाउन ही है तो शनिवार, शुक्रवार या सोमवार कोई भी चुनते क्या फर्क पड़ता❓

जिनको #अंकशास्त्र की थोड़ी भी जानकारी होगी, उनको पता होगा कि #5_अंकबुध का होता है.. यह #बीमारीगले_फेफड़े में ही ज्यादा फैलती है, मुख गले फेफड़े का कारक भी बुध ही होता है.. बुध #राजकुमार भी है।

रविवार सूर्य का होता है। सूर्य ठहरे #राजा_साहब।
दीपक या प्रकाश भी सूर्य का ही प्रतीक है

9 अंक होता है मंगल.. #सेनापति🛑
रात या अंधकार होता है शनि का…

अब रविवार 5 अप्रैल को, जोकि पूर्णिमा के नजदीक है, मतलब चन्द्र यानी रानी भी मजबूत… सभी प्रकाश बंद करके, रात के 9 बजे, 9 मिनट तक टॉर्च दीपक फ़्लैश लाइट आदि से प्रकाश करना है।

चौघड़िया #अमृत रहेगी, होरा भी उस वक्त सूर्य का होगा…. शनि के काल में सूर्य को जगाने के प्रयास के तौर पर देखा जा सकता है.. 9-9 करके सूर्य के साथ मंगल को भी जागृत करने का प्रयास

मतलब शनि राहु रूपी अंधकार (महामारी) को उसी के शासनकाल में में बुध सूर्य चन्द्र और मंगल मिलकर हराने का संकल्प लेंगे।

जब किसी भी राज्य के राजा रानी राजकुमार व सेनापति सुरक्षित व सशक्त हैं, तो राज्य का कौन अनिष्ट कर सकता है भला🤔
[20:39, 3/4/2020] +91 87952 25308: 1. रात को सूर्यास्त के बाद विषाणुओं व जीवाणुओं की शक्ति मे वृद्धि होती है ।
2. किट पतंगे विषाणु – जीवाणु दिए व मोमबत्ती की ओर आकर्षित होते हैं ।
3. दिए व मोमबत्ती से निकलने वाली अग्नि (जीवाणु व विषाणु अग्नि से भस्म हो जाते हैं) अपनी और आने वाले सभी विषाणु जीवाणु जैसी विषैले तत्वों को जला देती है।
4. प्रकाश की किरणे जो दिए व मोमबत्ती से निकलती हैं।लेकिन ट्यूब लाइट व CFL से नही वह विषाणु जीवाणु का अग्नि तक आगमन का मार्ग का कार्य करती हैं ।
5. जीवाणु – विषाणु प्राकृतिक अग्नि की ओर जैविक आवास के आभास के कारण आकर्षित होकर अग्नि के संपर्क मे आकर मरते हैं ।
6. एक साथ बड़ी संख्या मे दिए व मोमबत्ती को जलाने से रात्रि के तापमान मे नही वृद्धि विषाणु – जीवाणु के लिए घातक सिद्ध होगी ।
7. क्योंकि लोग खुद मोमबत्ती व दिए लेकर खड़े होंगे तो ऐसे मे जो अभी तक वायरस से संक्रमित हो चुके हैं लेकिन उन्हें पता नही है वह भी हाथ मे अग्नि लेकर जब खड़े होंगे तो उनकी त्वचा या कपड़ो पर उपष्टित जीवाणु – विषाणु अग्नि के बिल्कुल निकट आ जायेगा, जब वह दिए या मोमबत्ती के प्रकाश की किरणों के माध्यम से अग्नि स्रोत तक का मार्ग तय करेगा तो शीघ्र समाप्त होगा ।
[20:39, 3/4/2020] +91 87952 25308: वाह मोदी जी वाह!
क्या तोड़ निकाल कर लाए।
हम सोच रहे थे यह 5 तारीख को रात 9 बजे 9 दिए लगाने से क्या होगा?

तंत्र में प्रदोष का बहुत महत्व है। और 8 तारीख को आने वाले हनुमान जयंती अवसर के पूर्व 5 तारीख को मदन द्वादशी का प्रदोष काल अति महत्वपूर्ण काल है।
तंत्र मतानुसार प्रदोष काल में कोई अपने घर के सामने या छत पर चौमुखी दीपक सरसों के तेल से लगाए तो उस घर के आसपास संक्रमण समाप्त हो जाता है।
अगर चौमुखी न हो तो 9 दीपक लगाएं।
यह सब जानकर हम आश्चर्य चकित रह गए कि मोदी जी हर क्षेत्र में आगे है।
धन्य है हम ऐसा प्रधानमंत्री पाकर ।
जो आध्यात्म की पराकाष्ठा को छूता हो।

सनातन धर्म की जय हो।
🌹🌹🌹🙏🏻🙏🏻🙏🏻
 सुबह 9 बजे ( पहली बार)=9
5-अप्रेल (5+4)=9
रात 9 बजे =9
कितने मिनेट =9
संबोधन समय (मिनेट) =9

संबोधन तिथि 3-4-20 (3+4+2+0) =9

9 का अंक अविभाज्य है अतः अब भारत के इस अघोषित तीसरा विश्वयुद्ध जीतने से कोई नही रोक सकता । पहले ध्वनि विज्ञान अब प्रकाश विज्ञान सबकुछ वैज्ञानिक व शास्त्रो के अनुसार धन्य है ऐसा प्रधानमंत्री ।

 

मित्रों और अधिक जाने हमारे यूट्यूब चैनल पर जाकर
हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें
ट्विटर को फॉलो करे

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here