दीप नारायण सिंह डिग्री कालेज तुलसीपुर, बलरामपुर।* 18/04/2020 अपील कोरोना वायरस (कोविड-19) के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए विनम्र निवेदन।। 

0
14

दीप नारायण सिंह डिग्री कालेज तुलसीपुर, बलरामपुर।* 18/04/2020 अपील कोरोना वायरस (कोविड-19) के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए विनम्र निवेदन।🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻। 

आदरणीय अभिभावक गण एवं प्रिय छात्र-छात्राओं।
कोरोना वायरस (कोविड-19) के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए विनम्र निवेदन।🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻। 

कोरोना संक्रमण एक प्राकृतिक विपदा है।यह एक ऐसा संकटकाल है जब हम सबको एक दूसरे का साथ देना चाहिए। इसके लिए कोई व्यक्ति दोषी नहीं है, इसलिए इसे छुपाने की जरूरत भी नहीं है। सरकार ने रोगियों की जांच एवं इलाज के लिए बेहतरीन इंतजाम किए हैं।इसका लाभ हर जरूरत मन्द व्यक्ति को उठाना चाहिए। सभी लोगों को सरकार और वैज्ञानिकों के दिशा निर्देशों का पालन करना चाहिए।ऐसी कोई बात नहीं है कि कोरोना को परास्त नहीं किया जा सकता है।
अजीब विडंबना है कि इस समय जब कोरोना संक्रमण का चक्र तोड़ने के लिए सभी नागरिकों से सहयोग की अपील की जा रही है, तो कुछ लोग नियम-कायदों की धज्जियां उड़ाते, बल्कि सुरक्षा एवं चिकित्सक दलों पर हमले करते देखे जा रहे हैं। जो लोगों को इस संक्रमण से मुक्त करने या इसके बारे में जागरूक करने का प्रयास कर रहे हैं उन्हीं के साथ असहयोग हो रहा है। आखिर चिकित्सक और पुलिस लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर ही संदिग्ध लोगों की जांच एवं सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं, परन्तु लोगों को लगता है कि उनकी निजता पर बेजा दखल है।कोरोना संकट में निजता का कोई मतलब नहीं है। अगर कोई व्यक्ति कोरोनावायरस से संक्रमित है तो वह समाज के बहुत सारे व्यक्तियो को संक्रमित कर सकता है। इस कारण उसे संक्रमण से बचाने की जिम्मेदारी प्रशासन की है।कोरोना वायरस की परवाह किए बिना मनमानी पूर्वक घूमना या चिकित्सक दलों और पुलिस की अपील को ठुकराना कोई शान की बात नहीं है। यह बीमारी इस समय महामारी का रूप ले चुकी है। दुनिया के अधिकतर विकसित, समृद्ध एवं उन्नत चिकित्सा वाले देश भी इस बीमारी पर काबू पाने के मामले में घुटने टेक चुके हैं।ऐसी हालत में यदि प्रशासन सावधानी बरतने की सलाह देता है तो उसे नजर‌अंदाज करने की कोई बात नहीं है।कोरोना संक्रमण से बचने का उपाय तालाबंदी एवं सोशल डिस्टेंसिंग है। हमें इसका पालन करना चाहिए।
घर में रहें, सुरक्षित रहें।
यें कैसा समय आया कि दूरियां ही दवा बन गई।

निवेदक- प्रबंधक/ प्राचार्य एवं समस्त स्टॉफ।
दीप नारायण सिंह डिग्री कालेज
तुलसीपुर,बलरामपुर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here