बादशाह गधे और धोबी की कहानी Story of Badshah Donkey and Dhobi

0
24

एक बादशाह ने गधों को क़तार में चलता देखा तो धोबी से पूछा, “ये कैसे सीधे चलते है..?”

धोबी ने जवाब दिया, “जो लाइन तोड़ता है उसे मैं सज़ा देता हूँ, बस इसलिये ये सीधे चलते हैं।”

बादशाह बोला, “मेरे मुल्क में अमन क़ायम कर सकते हो..?”
धोबी ने हामी भर ली।


धोबी शहर आया तो बादशाह ने उसे मुन्सिफ बना दिया, और एक चोर का मुक़दमा आ गया, धोबी ने कहा चोर का हाथ काट दो।

जल्लाद ने वज़ीर की तरफ देखा और धोबी के कान में
बोला, “ये वज़ीर साहब का ख़ास आदमी है।”

धोबी ने दोबारा कहा इसका हाथ काट दो, तो वज़ीर ने सरगोशी की कि ये अपना आदमी है ख़याल करो।


इस बार धोबी ने कहा, “चोर का हाथ और वज़ीर की ज़ुबान दोनों काट दो, और एक फैसले से ही मुल्क में अमन क़ायम हो गया…।

बिलकुल इसी न्याय की जरुरत हमारे देश को है

ग़ौर करके सोचना
की जो लोग
सेना के जवानो से नही डरते,
इस देश की पुलिस से नही डरते,
शासन- प्रशासन से नही डरते,
इस देश के क़ानून से नही डरते,
वो भविष्य में आप और हम जैसे
निशस्त्र लोगों से डरेंगे क्या…????

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here